Best Tips For Teeth Arising From Ravan Samhita In Hindi Total Post View :- 123

Best Tips For Teeth Arising From Ravan Samhita In Hindi | रावण संहिता से उद्भूत दांतों के लिए बेहतरीन टिप्स हिंदी में

Best Tips For Teeth Arising From Ravan Samhita In Hindi | रावण संहिता से उद्भूत दांतों के लिए बेहतरीन टिप्स हिंदी में – दांत हमारे शरीर का महत्वपूर्ण हिस्सा है । दातों की सुरक्षा से सम्बन्धी आवश्यक जानकारी प्रस्तुत कर रहे हैं। यह रावण संहिता से अनेकविध रोग का उपचार में उल्लेखित हैं।

दांतों से मनुष्य की आयु का पता चलता है। अतः अपने दांतों की व दीर्घायु बने रहने का लिए अवश्य पढ़ें।

Best Tips For Teeth Arising From Ravan Samhita In Hindi | रावण संहिता से उद्भूत दांतों के लिए बेहतरीन टिप्स हिंदी में

  • सहजन के गोंद को मुंह में रखने से दांत का सड़ना रूक जाता है।
  • इलायची और लौंग का तेल बराबर बराबर मात्रा में लेकर दांतों पर मलने से दांत दर्द में आराम होता है।
  • पांच ग्राम सोठ पीसकर गर्म पानी के साथ सेवन करने से दाँत दर्द में लाभ मिलता है।
  • दाँत में यदि छेद हो गया हो तो उसमें सुहागा और मोम मिलाकर भरना चाहिए।
  • सरसों के तेल में नमक मिलाकर मंजन करने से दाँत दर्द ठीक होता है।
  • हल्दी की गाँठ भूनकर दाँतो के बीच में दबाकर चूसने से दर्द में आराम मिलता है।

पायरिया रोग में

  • पायरिया रोग में एक भाग नीबू का रस, एक भाग शहद बराबर मात्रा में मिलाकर मसूड़ों पर मलते रहें, इससे काफी लाभ होगा।
  • दांतों का क्षय करने वाला रोग पायरिया है। नीबू के रस को उंगली के सिरे पर लेकर धीरे-धीरे पांच मिनट तक दांतों पर मसाज करें। दांतों से निकलने वाला खून बन्द हो जायेगा।
  • सुपारी, सूखे कत्थे और पीपल के पत्ते को बराबर मात्रा में जलाकर उसकी राख में नीला थोथा मिलाकर मंजन करने से दाँत का दर्द अतिशीघ्र ठीक हो जाता है।
  • एक इलायची के बीज को 400 ग्राम पानी में उबालकर चौथाई शेष बचे पानी से कुल्ला करने से दांत दर्द में लाभ होता है।
  • दांतों को साफ करने के लिये पहले नींबू के छिलकों को धूप में सुखा लें ।। फिर इन्हें अच्छी तरह बारीक पीस लें। इस प्रकार यह एक दंत मंजन तैयार हो जायेगा।
  • इसे दिन में तीन चार बार दांतों पर मलने से एक मास के अंदर गंदे से गंदे दांत भी सांफ हो जायेंगे।
  • साथ ही दांतों के अन्य रोगों से भी मुक्ति मिलेगी। मुंह की बदबू दूर होगी तथा दांत भी मजबूत बनेंगे।
  • एक या दो ग्राम काली मिर्च को 3-4 जामुन के पत्ते या अमरूद के पत्तों के साथ उबालें ।
  • जब पानी हल्का कुनकुना हो जाये तो, कुल्ला करने से दांत के दर्द मिलती है। गले का भारीपन भी दूर होता है।
  • दांत अत्यधिक दर्द करता हो तो लौंग का 1-2 बूंद तेल लगायें। यदि कीड़े है तो वे भी नष्ट हो सकेंगे।

पायरिया में | Best Tips For Teeth Arising From Ravan Samhita In Hindi | रावण संहिता से उद्भूत दांतों के लिए बेहतरीन टिप्स हिंदी में

  • पायरिया, मसूढ़ों की सूजन, दर्द, बदबू, इन रोगों के उपचार के लिये एक चम्मच शहद में बीस बूंद लहसुन का रस निकाल कर उन दोनों को आपस में मिलाकर चाटते रहें।
  • यह दवा एक मास तक चलेगी इससे दांत रोग हमेशा के लिये ठीक हो जायेगा।
  • 5 ग्राम हींग को 1 गिलास पानी में उबालकर कुल्ले करने से दांत का दर्द ठीक हो जाता है।
  • तिल दांतों के लिये हितकर है। प्रतिदिन २५ ग्राम तिलों को चबा चबा कर खाने से दांत मजबूत होते है।
  • मुंह में तिल को भरकर 5-10 मिनट रखने से पायरिया ठीक होकर दांत मजबूत हो जाते है।
  • अनार तथा गुलाब के सूखे फूल दोनों को पीसकर मंजन करने से मसूड़ों से पानी आना बंद हो जाता है।
  • केवल अनार की कलियों के चूर्ण का मंजन करने से मसूढ़ों से खून आना बन्द हो जाता है।

दांतों का हिलना

  • मीठे अनार के 10 पत्तों के चूर्ण के मंजन से दांतों का हिलना, मसूढ़ों से खून और पीव का आना या सूजन में फायदा पहुंचता है।
  • अमरूद के पत्तों को चबाने या पत्तों के काढ़े में फिटकरी मिलाकर कुल्ला करने से दांत की पीड़ा दूर होती है।
  • आम की छाल व पत्तों को समभाग पीसकर मुख में धारण करने या कुल्ला करने से दांत व मसूड़े मजबूत होते है।
  • पायरिया रोग में १ भाग नींबू का रस, १ भाग शहद बराबर मात्रा में मिलाकर मसूड़ों पर मलते रहें, इससे काफी लाभ होगा।
  • दांतों का क्षय करने वाला रोग पायरिया है। नीबू के रस को उंगली के सिरे पर लेकर धीरे-धीरे 5 मिनट तक दांतों पर मसाज करें। दांतों से निकलने वाला खून बन्द हो जायेगा।
  • इस रोग के लिये 50 ग्राम गोभी हर रोज खाने से दंत रोगों को काफी लाभ होता है।

दंतशूल | दांत का दर्द

  • काले जीरे के क्वाथ से कुल्ले करने से दंतशूल मिटता है।
  • 01 चम्मच सरसो का तेल, 5 ग्राम लहसुन, 2 ग्राम काला नमक, 30. अजवाइना ।
  • लहसुन की कलियों को अलग करके छोलकर बारीक काट ले, उन्हें तेल में डालकर हल्की आंच पर भूनना शुरू कर दें।
  • जब लहसुन का रंग काला हो जाये तो उसमें काला नमक और अजवाइन को पीसकर डाल दें,
  • इन सब को मिलाकर भून लें। अब इस मंजन को सुबह शाम दो समय दांतों पर और मसूड़े पर अच्छी तरह मलें।
  • कुछ दिनों के पश्चात ही हम स्वयं ही महसूस करेंगे कि दांत कितने अच्छे साफ हो गए।

दांत दर्द

  • प्याज और कलोंजी को बराबर लेकर उसका धुआं पीने से मसूड़ों की सूजन और दांतों का दर्द मिट जाता है।
  • 4 बूंद सरसों का तेल, 2 ग्राम पिसी हल्दी तथा 2 ग्राम पिसा सेंधा नमक मिलाकर, सुबह-शाम मसूड़ो पर अच्छी प्रकार 2 मिनट तक मालिश करें।
  • बाद में गुनगुने पानी से कुल्ला करने से मसूड़ों के सभी रोग दूर हो जाते हैं।
  • आंवले को भूनकर चूर्ण बनाकर सेंधा नमक मिला लें तथा 2-3 बूंदे सरसों का तेल मिलाकर नियमित रूप से मंजन करें। पायरिया रोग समाप्त हो जायेगा।
  • दांतों के रोग के कारण आपके सारे दांत पतझड़ के पत्ते को भांति झड सकते हैं
  • और एक दिन आप जवानी में बूढ़े बन कर घूमेंगे । इसलिये इस रोग का इलाज पहले से ही कर लें।
  • हर रोज सुबह शाम ककड़ी का रस दो दो बूंद डालकरपीने से पायरिया रोग जड़ से चला जाता है।
  • पहले संतरे के छिलके लेकर उन्हें धूप में सुखा लें फिर उन्हें पीसकर छान कर इसका मंजन बना लें।
  • इस मंजन से, मसूड़ों और दांतों पर खूब मालिश करें, ऐसा हर रोज करते रहने से सारे दांतों के रोग दूर हो जाते हैं, पायरिया भी धीमे-धीमे जड़ से समाप्त हो जायेगा।

निष्कर्ष | Best Tips For Teeth In Hindi|दांतों के लिए बेहतरीन टिप्स हिंदी में

आज अपने दांतों की सुरक्षा व मजबूती से सम्बंधित रावण संहिता में उध्दृत चमत्कारी नुस्खे जाने।

आशा है आपको Best Tips For Teeth Arising From Ravan Samhita In Hindi | रावण संहिता से उद्भूत दांतों के लिए बेहतरीन टिप्स हिंदी में से सम्बंधित लेख अवश्य पसंद आया होगा।

अपना कीमती समय निकालकर इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यवाद !

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!