हिबिस्कुस पाउडर के फायदे व इसे उपयोग करने का तरीका ! Total Post View :- 604

हिबिस्कुस पाउडर के फायदे व इसे उपयोग करने का तरीका !

नमस्कार दोस्तों ! आज हिबिस्कुस पाउडर के फायदे के बारे में हम आपको बताएंगे। यह जवाकुसुम, गुड़हल, जसवंत, चाइना फ्लावर, और हिबिस्कुस के नाम से जाना जाता है। सफेद लाल और गुलाबी रंगों में पाया जाता है। किंतु औषधीय प्रयोगों में इसका लाल रंग का फूल ही उपयोग में लिया जाता है।

इस आर्टिकल में हम आपको हिबिस्कुस के फूल की प्रकृति व पाउडर के फायदे , इसके औषधीय उपयोग, हिबिस्कुस का तेल बनाने की विधि व इसके लाभ एवं हिबिस्कुस पाउडर से फेस पैक के फायदे के बारे में बताएंगे। तो चलिए शुरू करते हैं

हिबिस्कुस फूल की प्रकृति वह पाउडर के फायदे !

  • यह ठंडी तासीर का होता है और पित्त शामक होता है।
  • अतः पित्त प्रकृति वालों को जिनके शरीर में पहले से गर्मी मौजूद हो अर्थात
  • एसिडिटी, पैर का जलना, पीलिया आदि जैसी समस्याएं हो उन व्यक्तियों के लिए यह बहुत लाभदायक होता है।
  • वैसे सभी इसका प्रयोग कर सकते हैं।
  • किंतु यह ठंडी तासीर का होने के कारण गर्म तासीर वालों को अधिक फायदा होता है।
  • इसका प्रयोग गर्मी के दिनों में करना चाहिए।
  • ठंड में इसे उपयोग करने पर इसके साथ में काली मिर्च का सेवन करने से ठीक रहता है।
  • यह औषधि फूल है इसमें आयरन, कैल्शियम और कैरोटीन बहुत अधिक मात्रा में होता है।
  • इसमें विटामिन सी भी पाया जाता है।

हिबिस्कुस के औषधीय उपयोग !

  • इसका प्रमुख उपयोग पित्ताशय की पथरी दूर करने के लिए होता है।
  • इसके लिए बीज वाला और हरी डंडी वाला भाग अलग करके कम से कम एक फूल प्रतिदिन सेवन करना होता है।
  • फिर 4- 6 दिन में संख्या बढ़ाते हुए अधिकतम 3 फूलों तक ही इसका सेवन करना चाहिए।
  • इसे सूर्य ढलने के पहले उपयोग करना चाहिए।
  • इसका उपयोग पाउडर, गुलकंद और शरबत आदि के रूप में किया जा सकता है।
  • एक दो फूलों को पानी में उबालकर चाय बनाकर पीने से लाभ होता है। लो बीपी वाले इस का प्रयोग ना करें।
  • और यदि खाना ही हो तो 5-7 काली मिर्च ऊपर से खा लेने से इसका दुष्प्रभाव नहीं हो पाता।
  • इसे गर्भवती स्त्री को नहीं खाना चाहिए यह एक गर्भनिरोधक की तरह कार्य करता है।
  • इसमें आयरन होने से यह खून की कमी को पूरा करता है।
  • यह बहुत ही ताकतवर होता है अतः कमजोरी में इसका उपयोग किया जाता है ।

हिबिस्कुस का तेल बनाने की विधि व इसके लाभ !

  • बालों की खूबसूरती बढ़ाने और स्वास्थ्य के लिए हिबिस्कुस का तेल अति उत्तम होता है।
  • इसे बनाने के लिए 8 से 10 फूलों को एक कटोरी नारियल तेल में 10 मिनट तक धीमी आंच पर पकाएं।
  • ठंडा होने पर हल्के हाथों से रात को सोते समय सिर पर मालिश करें। बालों के आखिरी सिरों तक तेल को लगाएं।
  • सुबह बालों को धो लें इससे बाल लंबे, चमकदार, घने और मजबूत होते हैं। यह गंजेपन की समस्या को दूर करता है।

हिबिस्कुस पाउडर फेस पैक के फायदे !

  • चमकता हुआ बेदाग चेहरा पाने के लिए हिबिस्कुस फेसपैक बहुत ही फायदेमंद है।
  • इसमें मौजूद नैसर्गिक तत्व स्किन को प्यूरिफाई करते हैं और दाग धब्बों की सफाई करते हैं।
  • यह एंटी एजिंग, एंटी एक्ने और एंटी पिगमेंटेशन की तरह कार्य करता है ।
  • स्किन में ग्लो लाकर टैनिंग, सनबर्न, एजिंग आदि की समस्या को दूर करता है।
  • इसका प्रयोग हफ्ते में एक बार अवश्य करना चाहिए ।
  • फेस पैक बनाने के लिए 4-5 हिबिस्कुस के फूलों को पीसकर या छाया में सुखाकर उसका पाउडर बना लें।
  • फिर एक चम्मच बेसन, एक चम्मच हिबिस्कुस पाउडर, एलोवेरा जेल, गुलाब जल मिलाकर फेस पैक तैयार करें।
  • इसे चेहरे पर हफ्ते में एक बार लगाएं । फर्क आप स्वयं देखेंगे।

लगभग सभी जगह पाए जाने वाला हिबिस्कुस (गुड़हल )का यह पौधा अत्यंत ही फायदेमंद है । इसे अपने घर की बगिया में अवश्य स्थान दें और इसके गुणों का लाभ उठाएं। हमारी वेबसाइट पर दी गई समस्त जानकारी विभिन्न स्रोतों से किए गए अध्ययन एवं अनुभवों पर आधारित होती है अतः प्रयोग करने से पूर्व संबंधित विशेषज्ञ की सलाह अवश्य लें। ऐसी ही महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए देखते रहें आपकी अपनी वेबसाइट

http://Indiantreasure. in

संबंधित पोस्ट भी अवश्य पढ़ें !

क्या आप जानते हैं : बुढापा रोकने के उपाय ?

मुल्तानी मिट्टी के फायदे : चमकता हुआ चेहरा पाएं, घर पर ही बनाएं फेस सोप !

कच्चे दूध का उपयोग ; जानिए ब्यूटी टिप्स, झुर्रियों से पाएं छुटकारा !

साबुन के फायदे व नुकसान ; साबुन लगाने के नियम !

https://youtu.be/BL-wFqFIppE

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!