Total Post View :- 1263

साबुन के फायदे व नुकसान ; साबुन लगाने के नियम !

प्रायः सभी लोग साबुन का उपयोग करते हैं ,किन्तु बहुत कम लोग इसके बारे में जानते हैं। तो आज साबुन कैसे बनता है ! साबुन के फायदे व नुकसान, साबुन के नाम की लिस्ट आदि के बारे में बात करेंगे।

इसका इतिहास 110 साल पुराना है, ब्रिटिश शासन के दौरान इंग्लैंड की एक कम्पनी इसे भारत लाई थी । इसके बाद 1918 में जमशेदजी टाटा ने सबसे पहले साबुन बनाना प्रारंभ किया था। जो आज सभी की जरूरत बन चुका है।

रोजमर्रा में काम आने वाली बड़ी ही उपयोगी वस्तु है साबुन। बहुत सी सर्च करने पर हम यह महत्वपूर्ण व रोचक जानकारी आप तक लाये हैं। तो आइए आज इस बहुउपयोगी चीज नहाने के साबुन के बारे में बात करेंगे।

वैसे तो सोशल मीडिया में इतने विज्ञापन आते हैं जो हमे भ्रमित करते हैं,कि हम कौन सा साबुन वापरें। तो आज आपकी इस समस्या का समाधान इस लेख से आपको मिल जाएगा। बहुत ध्यान से पढियेगा ! चलिए बढ़ते हैं विषय की ओर ….

साबुन कैसे बनता है !

  • साबुन वसा व विभिन्न प्रकार के तेलों से बनता है। जिसमें कच्चे माल के रूप में तेल और वसा के नूडल्स मिलते हैं।
  • इन्हीं नूडल्स में सॉफ्ट स्टोन पाउडर डालकर मशीन में अच्छी तरह मिलाते हैं।
  • झाग के लिए कॉस्टिक सोडा व अन्य रसायन मिलाये जाते हैं । जिससे एक क्षारीय घोल तैयार होता है
  • फिर इसीमें एसेंस, व कलर मिलाकर मशीन से यह एक स्टिक के रुप में निकलता है ।
  • जिसे छोटा-छोटा आकार दिया जाता है। तब पैकिंग के बाद यह हमारे सामने आता है।

साबुन के फायदे !

  • अब हम यह जान चुके हैं कि साबुन रासायनिक प्रक्रिया से तैयार किया गया क्षारीय घोल है।
  • अब इस साबुन के फायदे यह हैं कि हमारी त्वचा अम्लीय होती है और साबुन क्षारीय !
  • अक्सर धूल , मिट्टी व धुएं के कण हमारी त्वचा में चिपक जाते हैं। जिससे त्वचा के सभी रोमछिद्र बंद हो जाते हैं।
  • और त्वचा सांस नहीं ले पाती जिससे बेजान व खुरदुरी हो जाती है।
  • रोमछिद्र बंद होने से उस स्थान पर खुजली होने लगती है जिससे पूरे शरीर मे इन्फेक्शन होने लगता है।
  • साबुन के उपयोग से त्वचा में इन्फेक्शन होने से रोका जा सकता है।
  • इसके अलावा हमारे शरीर से निकलने वाला पसीना व नमी भी फंगस व बैक्टीरिया को जन्म देती है।
  • जिससे एकमात्र सरल उपाय साबुन का सही उपयोग ही है।आज कोरोना महामारी से लड़ने के लिए भी यह अचूक अस्त्र है।
  • साबुन से बार बार हाथ धोने से चिपका हुआ वायरस भी मर जाता है।
  • इस तरह साबुन के फायदे के साथ कुछ नुकसान भी हैं जिसे जानकर उसके नुकसान से बच सकते हैं।

साबुन के नुकसान !

  • किसी भी चीज की अति बुरी होती है । अतः बार-बार साबुन का उपयोग करने से त्वचा में उपस्थित तेल खत्म हो जाता है।
  • स्किन में झुर्रियां आ जाती हैं। स्किन खुरदुरी हो जाती है और वह बेजान व रूखी हो जाती है।
  • एक अध्ययन के अनुसार ज्यादा साबुन के प्रयोग से शरीर की इम्युनिटी भी कमजोर पड़ जाती है।
  • साबुन में उपस्थित रसायन हमारे शरीर मे जलन, खुजली व चर्मरोग भी पैदा करते हैं।
  • अपने सुना भी होगा कि कुछ लोगों को साबुन का रिएक्शन हो गया।
  • वो दरअसल साबुन का ज्यादा उपयोग करने से होता है। यह पहले हमारी स्किन से प्राकृतिक तेल को खत्म करती है।
  • फिर रूखापन आने से स्किन में खुजली होने लगती है, जो आगे चलकर एलर्जी का रूप ले लेती है।

साबुन लगाने के नियम !

  • साबुन के फायदे व नुकसान जानकर आपको डरने की बिल्कुल भी जरूरत नही है।
  • बस इसका उपयोग कैसे करें इसके लिए कुछ सावधानियां रखनी होंगी।
  • सबसे पहले सॉफ्ट साबुन का इस्तेमाल करें। सॉफ्ट साबुन कौन सा होगा ?
  • जिसमें तेल की मात्रा अधिक होगी वह पारदर्शी या (ट्रांस्पिरेन्ट) होगा ।
  • इसके अलावा साबुन कभी भी चेहरे में नही लगाना चहिए। और रोज-रोज पूरे शरीर मे भी नहीं लगाना चाहिए।
  • इसे एक दिन के अंतर से उपयोग करना चाहिए। ताकि शरीर मे रूखापन न आने पाए।
  • इसका प्रतिदिन उपयोग दोनों पैरों के पंजों में, दोनों हाथ (कलाई से नीचे),
  • अंडरआर्म्स (बगल में) व अंदरूनी अंगों में करना चाहिए। साबुन का उपयोग करने के बाद तेल अवश्य लगाएं।
  • रोज नहाने के लिए घरेलू चीजें बेसन, चोकर, दही, दूध, फल व सब्जियों के छिलकों का उपयोग करें।
  • इस प्रकार सावधानी रखने से कोई भी साबुन आपको कभी भी नुकसान नहीं पहुंचाएगा।

बहुप्रचलित साबुन के नाम !

  • नीम साबुन- मार्गो, मेडिमिक्स, हिमालया नीम एंड टरमरिक सोप।
  • क्लासिक सोप- डेटॉल, लक्स, पीयर्स ।
  • आयुर्वेदिक सोप – मेडिमिक्स, आयुर्वेदिक नेचुरल ग्लिसरीन बाथिंग बार
  • चंद्रिका आयुर्वेद हैंडमेड सोप
  • बायोटिक बेसिल एंड पारस्ले रिवाइटलाइजिंग बॉडी सोप
  • बायोटीक बायो ऑरेंज पील रिवाइटलाइजिंग बॉडी सोप
  • लेमन एंड फ्रेशनेस लिरिल लेमन एंड टी ट्री ऑयल सोप
  • सेंट पॉल कूल सोप
  • डेटॉल बाथिंग सोप
  • सिंथॉल, लाइम बाथ सोप, सिंथॉल ओरिजिनल बाथ सोप
  • ऐसी बहुत सी सोप हैं जो मार्केट में मिलती हैं, जिसका उपयोग आप नियमानुसार करेंगे तो कभी भी नुकसान नही होगा।
  • आशा है साबुन से सम्बंधित जानकारी आपको अच्छी लगी होगी।
  • इसमें हमने पढ़ा कि साबुन कैसे बनता है साबुन के फायदे नुकसान, साबुन नाम की लिस्ट ।
  • रोजमर्रा की जानकारी हेतु देखें हमारी वेबसाइट
  • http://Indiantreasure. in

इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी सुझाव या सवाल हो तो आप कमेंट बॉक्स में कर सकते हैं।

सम्बंधित लेख- कैसे करें स्नान ? जानिए स्नान के प्रकार व फायदे!

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!