साकेत की सरयू सब की है.. देश प्रेम से ओतप्रोत कविता!! Total Post View :- 749

साकेत की सरयू सबकी है…देशप्रेम से ओतप्रोत कविता!!

नमस्कार दोस्तों! साकेत की सरयू सबकी है यह उच्च हिमालय सबका है…. मानव मन को उद्वेलित कर देने वाली, आतंकवाद एवं सांप्रदायिक विद्वेष की लोमहर्षक घटना को दर्शाती है। बम धमाकों की गूंज, दहशत, कराह, चीत्कार, रक्त के फव्वारे, रोजमर्रा की बातें होती जा रही है। इतिहास साक्षी है कि एक ओर जहां साहित्य समाज का दर्पण है। वहीं दूसरी ओर साहित्यकार युग दृष्टा और युग दृष्टा बन वैचारिक क्रांति जगाता रहा है।

यह पंक्तियां राष्ट्रप्रेम और राष्ट्रीय एकता के स्वर में सजाई गई है। कवियित्री श्रीमती मनोरमा दीक्षित द्वारा आतंकवाद के कड़े विरोध एवं सद्भाव को प्रसारित करती है। और कश्मीर की घाटियों में केसर की क्यारीयों के समान मजबूती से खड़ी है। देशभक्ति से ओतप्रोत कविता पढें

साकेत की सरयू सबकी है…

  • साकेत की सरयू सबकी है यह उच्च हिमालय सबका है!
  • हर राष्ट्रभक्त का सारा वतन? ये वंदे मातरम सब का है!!
  • मुट्ठी भर सनकी वहशी ने, विद्वेष लगाया आपस में!
  • धरती ये गगन, यह मस्त पवन, हर जर्रे पर हक सबका है!!
  • हिंदू बनवाएंगे मस्जिद, मंदिर का नक्शा खान रचें!
  • अब छोड़ो खुराफाती बातें, यह रंग लहू का एक सा है!!
  • सदियों से अयोध्या में भाई, चंदन कुमकुम वे बेच रहे!
  • यह गंगाजली का जल भी वही, यह पानी वजू का एक सा है!!
  • जागा है अमन, जागा है वतन, हो धर्मदास या अल्लामा!मंदिर मस्जिद के ये प्रकरण, अब ना तो सियासी मसला है!!
  • श्रीराम का मंदिर भव्य बने, कहते हैं ट्रस्टी मस्जिद के!
  • अब जन्मभूमि परिसर बाहर, मस्जिद का बनना पक्का है!!
  • ईश्वर अल्लाह की गूंज उठे, सद्भाव के सारे चर्चे हों!
  • गीता गुरु ग्रंथ कुरान बाइबल, पढ़ने का हक सबका है!!
  • साकेत की सरयू सबकी है यह उच्च हिमालय सबका है!
  • हर राष्ट्रभक्त का सारा वतन, यह वंदे मातरम सब का है!!

अन्य पोस्ट भी पढ़ें!

दिमाग तेज करने के लिए आसान तरीका!

भोजन करने के नियम ; अवश्य दें पंच प्राणाहुति !

कहानी पेज की हांडी : कथा संग्रह पलाश के फूल से उद्धरित!

https://youtu.be/AgNZRFiqtJk

ऐसी ही अन्य पोस्ट पढ़ने के लिए देखते रहे आपकी अपनी वेबसाइट

http://Indiantreasure. in

Spread the love

2 thoughts on “साकेत की सरयू सबकी है…देशप्रेम से ओतप्रोत कविता!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!