लौंग के औषधीय फायदे ; मात्र 2 लौंग प्रतिदिन सेवन करें ! Total Post View :- 791

लौंग के औषधीय फायदे ; मात्र 2 लौंग प्रतिदिन सेवन करें !

लौंग के चमत्कारी औषधीय फायदे जानकर आप दंग हो जाएंगे। इस आर्टिकल में आप लौंग के औषधीय गुण और फायदे के बारे में जानेंगे।

यह औषधीय गुणों से भरपूर है जो मसाले के रूप में प्रयोग की जाती है।

इसका वानस्पतिक नाम SYGYGIUM AROMATICUM है। इसे अंग्रेजी में CLOVE कहते हैं।

इसको पीसकर व तड़का लगाकर पकवान व सब्जियों में स्वाद व सुगन्ध पैदा की जाती है।

साथ ही इससे भोज्य पदार्थ की गुणवत्ता भी बढ़ जाती है।

विभिन्न रोगों में लौंग चिकित्सा कर प्राथमिक तौर पर राहत पाई जा सकती है।

यह हानिकारक बैक्टीरिया को नष्ट करती है। यह दर्दनिवारक (पेनकिलर) व पेट मे गैस की समस्या होने पर राहत देती है।

लौंग के औषधीय फायदे !

  • यह एक कृमिनाशक पीड़ाहारी औषधि है जिसके तेल का उपयोग दाँतों में कीड़ा लगने व दर्द होने पर किया जाता है।
  • इसी गुण के कारण इसका उपयोग टूथपेस्ट में भी किया जाता है। यह मुख की दुर्गंध को दूर करती है।
  • गर्भवती महिलाओं को मितली आने व उल्टी की समस्या होने पर लौंग चूसने से राहत मिलती है।
  • पेट गैस की समस्या व कब्ज र्दय से छुटकारा पाने के लिए प्रतिदिन दो लौंग का उपयोग लाभकारी होता है।
  • इसका पानी तेजी से वसा (चर्बी) को पिघला देता है ।
  • अतः वजन कम करने के लिए 2 लौंग रात भर पानी मे भिगाकर,
  • सुबह खाली पेट उबालकर पीने से शरीर की चर्बी पिघलने लगती है।
  • लौंग बहुत गरम होती है , इसका नियमित सेवन सर्दी ,खांसी, जुकाम को दूर करता है ।
  • गले मे कफ नहीं होने देता। एंटीफंगल गुण होने से यह पेट के कीड़ों को मार देता है।
  • यह गरम होती है, एक दिन में 2 या 3 लौंग से ज्यादा सेवन नहीं करना चाहिए।
  • यह घर मे उपलब्ध ऐसी औषधि है जो हमे अनेकों बीमारी से बचाती है और हमारी हेल्थ के लिए लाभकारी है।
  • भोजन के बाद एक लौंग खाने से भोजन शीघ्र पचने में मदद करती है और पाचनसंस्थान को सही रखती है।

लौंग के औषधीय गुण व फायदे जानकर इसे अवश्य अपनी लाइफस्टाइल में शामिल करें । व प्रतिदिन 2 लौंग अवश्य चूसें व स्वस्थ रहें।

देखते रहें हमारी वेबसाइट।

http://Indiantreasure.in

सम्बन्धित लेख !

Spread the love

4 thoughts on “लौंग के औषधीय फायदे ; मात्र 2 लौंग प्रतिदिन सेवन करें !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!