मल्टीग्रेन आटा क्या है : इसे कितने अनुपात से बनाते हैं ! Total Post View :- 17504

मल्टीग्रेन आटा क्या है : इसे कितने अनुपात से बनाते हैं !

मल्टीग्रेन आटा क्या है, इसे कैसे बनाते हैं इसमें कौन सा अन्न मिलाया जाता है ? उस का अनुपात क्या होना चाहिए ? यह हम सभी को मालूम होना जरूरी है । बाजार में मिलने वाला मल्टीग्रेन आटा में कौन सा अन्न कितनी मात्रा में मिलाया गया है , यह जानकारी अवश्य लेना चाहिए ।

आज हम आपको मल्टीग्रेन आटा बनाने का तरीका व इसके फायदे बताएंगे ।

मल्टीग्रेन आटा क्या है या किसे कहते हैं

  • अनेक तरह के अनाजों को गेहूं के साथ मिलाकर पिसाया जाता है इससे ही मल्टीग्रेन आटा कहते हैं ।
  • प्रत्येक अनाज का एक निश्चित अनुपात होता है।

मल्टीग्रेन आटा में क्या-क्या होता है !

  • इसमें गेहूं, जौ, मक्का, चना, अलसी, बाजरा, छिलके वाली मूंग, मोठ व सोयाबीन होता है ।
  • सोयाबीन बहुत भारी होता है यह पचने में कठिन होता है।
  • यह 30 से 35 वर्ष की उम्र से अधिक वालों के लिए उपयुक्त नहीं होता।
  • यह बढ़ते बच्चों में भी जिन का पाचन मजबूत हो उन्हें ही खाना चाहिए।
  • अन्यथा सोयाबीन ना मिलाए तो भी अच्छा है ।

मल्टीग्रेन आटा में सामग्री का अनुपात !

  • इसे बनाने के लिए मल्टीग्रेन आटा में सामग्री का उचित अनुपात में होना आवश्यक है।
  • गेहूं- 2 किलो, जौ- 2 किलो, मक्का- 1 किलो, चना- 1 किलो (छिलके वाला, देशी चना या फिर काला चना)
  • बाजरा- 1 किलो( इसे सर्दियों में ही मिलाएं), मूंग छिलके वाली- 1/2 किलो, मोठ-1/2 किलो, अलसी-1/2 किलो ।

मल्टीग्रेन रोटी रेसिपी !

  • इस प्रकार तैयार किए गए मल्टीग्रेन आटे से रोटी बनाने में मुश्किल होती है।
  • इसीलिए गेहूं का आटा अलग से पिसवाकर रख लें ।
  • रोटी बनाते समय सादे आटे में मल्टीग्रेन आटे को मिलाकर रोटी बनाने पर रोटियां अच्छी बनती है।

मल्टीग्रेन आटा खाने के फायदे !

  • अद्भुत चमत्कारी गुणों का खजाना है मल्टीग्रेन आटा। इसे खाने से उम्र बढ़ती है।
  • बच्चों के विकास में बहुत ही फायदेमंद होता है, यह प्रोटीन की कमी को दूर करता है।
  • इम्यून सिस्टम को मजबूत करता है जिससे जल्दी-जल्दी बीमार नहीं पड़ते।
  • कब्जियत और डाइजेशन की प्रॉब्लम का रामबाण उपचार है मल्टीग्रेन आटा।
  • आटा कभी भी 15 दिन से ज्यादा का नहीं पिसवाना चाहिए ।

अब तक आप जान चुके होंगे कि मल्टीग्रेन आटा क्या है, इसे कितने अनुपात में बनाते हैं, इसमें क्या-क्या होता है तथा इसके क्या फायदे हैं । अतः मल्टीग्रेन आटा अवश्य अपनाएं और स्वस्थ जीवन पाएं। ऐसी ही छोटी किंतु महत्वपूर्ण जानकारियों के लिए देखते रहे आपकी अपनी वेबसाइट

http://Indiantreasure. in

गेहूं की रोटी खाने के फायदे : बार बार क्यों नहीं खाना चाहिए रोटी !

क्या आप जानते हैं : बुढापा रोकने के उपाय ?

तुलसी का उपयोग कैसे करें ! कहीं आप तुलसी की चाय तो नहीं पीते ?

Spread the love

2 thoughts on “मल्टीग्रेन आटा क्या है : इसे कितने अनुपात से बनाते हैं !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!