डस्टबिन के वास्तु टिप्स जानिए ; घर मे डस्टबिन कहां रखें ! Total Post View :- 3763

डस्टबिन के वास्तु टिप्स जानिए ; घर मे डस्टबिन कहां रखें !

आज इस लेख में जानते हैं डस्टबिन रखने के वास्तु टिप्स । यह यदि गलत दिशा में रखी रहे तो विनाश को आमंत्रित करती है। और बेतरतीब पड़ा हुआ कचरा नकारात्मक ऊर्जा फैलाता है। हम दिन भर में निकलने वाला कचरा एक जगह किसी डिब्बे या डस्टबिन में एकत्र कर लेते हैं।

वास्तु शास्त्र के मुताबिक घर में प्रत्येक वस्तु को रखने का एक निश्चित स्थान होता है। तभी वह वस्तु उस दिशा से मिलकर सकारात्मक या नकारात्मक प्रभाव को छोड़ती है जिससे हमारा जीवन और हेल्थ प्रभावित होती है।

डस्टबिन के वास्तु टिप्स !

  • घर में डस्टबिन का उपयोग करते समय कुछ सावधानियां रखनी चाहिए ।
  • इसे हमेशा ढंककर रखें। कभी भी खुला नहीं रखना चाहिए । तथा कूड़ा हमेशा डस्टबिन में ही डालें।
  • इसके आसपास के गिरा हुआ कचरा जीवन में नकारात्मकता को बढ़ावा देता है
  • इसकी प्रतिदिन सफाई की जानी चाहिए।
  • यह टूटी फूटी नहीं होना चाहिए इसका टूटा फूटा होना आपकी आर्थिक स्थिति को भी जर्जर कर सकता है।
  • प्रवेश द्वार के सामने कभी भी कूड़ेदान नहीं रखना चाहिए। अन्यथा यह नकारात्मक ऊर्जा को घर में प्रवेश दिलाती है।
  • बेडरूम में कभी भी डस्टबिन नहीं रखना चाहिए यह पति-पत्नी के संबंधों में दरार लाता है।
  • हमेशा सफेद, हरे और पीले रंग की डस्टबिन का उपयोग करना चाहिए ।
  • लाल या चटकदार रंगों की डस्टबिन के उपयोग से बचना चाहिए।

डस्टबिन का उपयोग किस दिशा में नहीं करना चाहिए !

उत्तर-पूर्व दिशा ;

  • वास्तु शास्त्रियों का कहना है कि घर में उत्तर पूर्व की ओर कूड़ा दान कभी भी नहीं रखना चाहिए।
  • इससे मानसिक स्वास्थ्य और विचार करने की प्रक्रिया पर प्रभाव पड़ता है।
  • तथा व्यक्ति हमेशा तनाव में रहता है और जीवन में अनिश्चितता को महसूस करता है।

पूर्व दिशा में भूलकर न करें डस्टबिन का उपयोग ;

  • यह दिशा अत्यंत ही पवित्र दिशा है तथा ज्ञान की दिशा होने के साथ-साथ समस्त समृद्धियों को प्रदान करने वाली भी मानी गई है।
  • इस दिशा में कूड़ेदान रखने पर व्यक्ति हमेशा अकेला महसूस करता है।
  • उसकी सामाजिकता पूरी तरह नष्ट हो जाती है उसे किसी से भी मिलना जुलना अच्छा नहीं लगता।
  • और वह एकांत प्रेमी स्वभाव का हो जाता है।
  • यहां पर रखा हुआ डस्टबिन आपके विकास में बाधा डालता है ।
  • अतः कभी भी पूर्व दिशा में डस्टबिन का उपयोग नहीं करना चाहिए।

दक्षिण-पूर्व दिशा में न करें डस्टबिन का उपयोग ;

  • दक्षिण-पूर्व दिशा धन की दिशा मानी गई है।
  • इस स्थान पर डस्टबिन या कूड़ेदान रखने से धन के संचय में बाधा आती है
  • और आपका धन व्यर्थ के कामों में खर्च होता है तथा अपव्यय करने की प्रवृत्ति बढ़ती है।
  • अतः इस दिशा में भी डस्टबिन रखना अशुभ माना जाता है।

उत्तर दिशा में न करें डस्टबिन की व्यवस्था ;

  • यह दिशा आपके जीवन में आपके आय के स्रोतों को बताती है तथा नौकरी और कैरियर से संबंधित होती है।
  • इस दिशा में डस्टबिन रखने से नौकरी और कैरियर के क्षेत्रों पर प्रभाव पड़ता है।
  • यह आपके आय के स्रोतों को समाप्त कर देती है तथा नौकरी और कैरियर के अवसरों को भी खत्म कर देती है।
  • अतः इस दिशा में भी डस्टबिन रखना अशुभ फलदाई होता है।

डस्टबिन किस दिशा में रखें !

  • घर में डस्टबिन की व्यवस्था करते समय दिशाओं का अवश्य ध्यान रखें ।
  • आइए जानते हैं कि डस्टबिन किस दिशा में रखें जिससे हमारे जीवन में सुख-समृद्धि और शांति का वास हो।

दक्षिण व दक्षिण-पश्चिम दिशा में रखें डस्टबिन :

  • डस्टबिन के उपयोग हेतु दक्षिण व दक्षिण-पश्चिम दिशा उपयुक्त मानी गई है।
  • इस दिशा को अपव्यय और विसर्जन का स्रोत माना गया है जिससे घर का कूड़ा इस दिशा में विसर्जित करना उत्तम माना जाता है।
  • इस दिशा में कूड़ा दान रखने से व्यर्थ की बातें दिमाग में नहीं आती और आपकी प्रगति का मार्ग प्रशस्त होता है।

उत्तर-पश्चिम दिशा में रखें डस्टबिन का ;

  • यह दिशा डिप्रेशन का क्षेत्र मानी गई है।
  • इस स्थान पर डस्टबिन रखने से आपके जीवन में सकारात्मक दृष्टिकोण पनपता है।
  • जो आपकी प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।
  • अतः इस दिशा में भी डस्टबिन को रखना शुभ फलदाई माना गया है।

कुछ सामान्य सी बातों को अपने जीवन में अपनाकर हम सुख शांति और समृद्धि को आमंत्रित करते हैं।

आज डस्टबिन के वास्तु टिप्स में आपने डस्टबिन को किस दिशा में रखें और किस दिशा में नहीं रखना चाहिए के बारे में जाना।

आपको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो इससे शेयर अवश्य करें और इसी तरह के अन्य लेख पढ़ने के लिए जुड़े रहे आपकी अपनी वेबसाइट

http://Indiantreasure.in

संबंधित लेख !

Spread the love

2 thoughts on “डस्टबिन के वास्तु टिप्स जानिए ; घर मे डस्टबिन कहां रखें !

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!