कैसे करें दूर नर्वसनेस :6 बातें Total Post View :- 996

कैसे दूर करें नर्वसनेस ; 6 बातें ! How to overcome nervousness; 6 things!

मन की नर्वसनेस को कैसे दूर करें, ऐसा क्या करें कि मन आत्मविश्वास से भर उठे।

आइये इस समस्या से निपटने के लिए कुछ जरूरी बातों पर गौर करतें हैं। जिन्हें हम अक्सर इग्नोर कर देते हैं।

प्रत्येक कार्य को करते हुए मन में विश्वास का होना बहुत जरूरी है। आपका स्वयं पर विश्वास ही आपकी जीत है।

अक्सर नए कार्य को करने से पूर्व मन में घबराहट सी होने लगती है। कैसे दूर करें नर्वसनेस ; अपनायें 6 बातें!

कभी-कभी यह डर और घबराहट इतनी ज्यादा हो जाती है कि हम कार्य को शुरू ही नहीं करते और छोड़ देते हैं।

इसी घबराहट को नर्वसनेस कहते हैं। आज इसी घबराहट पर विजय पाने के लिए कुछ बातें विशेषज्ञों ने बताई हैं।

जिसे जानकर निश्चित रूप से आपअपने मन की घबराहट को दूर कर कार्यों में 100% सफलता पा सकते हैं।

किसी भी कार्य को करने के पूर्व हमेशा असफल होने का डर रहता है ।

लोग क्या कहेंगे या मैं यह कैसे करूंगा या करूंगी आदि प्रश्न होते हैं ।

इन्हीं प्रश्नों के उत्तर कुछ लघु रूप में लेख में प्रस्तुत हैं । वे छः बातें हैं ,जिन्हें अपनाकर आप सफल हो सकते हैं।

1. नर्वसनेस को दूर करने के लिए आध्यात्मिकता का उपयोग कैसे करें। How to use spirituality to overcome nervousness.

  • आध्यात्मिकता ( Spirituality ), धार्मिकता या ईश्वर के प्रति विश्वास(भक्ति) हमारी चेतना को ऊपर उठाती है।
  • और तब हम बाकी चीजों को भली प्रकार से देख कर उसका विश्लेषण कर सकते हैं ।
  • अतः जीवन में भक्ति का होना परम आवश्यक है। आध्यात्मिक व्यक्ति स्वयं में शुद्घ व पवित्र होता है।
  • ईश्वर के प्रति भक्ति हम में एकाग्रता, विश्वास और तपस्या के भाव लाती हैं।
  • यह ऐसे नैसर्गिक गुण हैं जो प्रत्येक श्रेष्ठतम व सफल व्यक्ति में पाए जाते हैं।
  • आपने देखा होगा कि भक्तों का नियम होता है; वे भक्ति को नियमित रूप से निश्चित समय में अवश्य करते हैं ।
  • चाहे मौसम कोई हो,स्वस्थ हो या अस्वस्थ हों भक्ति व आराधना निश्चित समय पर अवश्य करते हैं ।
  • यही भक्ति मन में दृढ़ता व विश्वास पैदा करती है यही आध्यात्मिक चेतना हमारी सहायता करती है।(कैसे दूर करें नर्वसनेस)

कैसे पाएं खोया आत्मविश्वास ? अचूक तरीके !

  • तथा भक्तों में कुछ भी कर सकने का साहस पैदा होता है। तथा निर्भीकता के साथ व्यक्ति कार्य को पूर्ण कर पाते हैं ।
  • अतः यदि जीवन में आत्मविश्वास को सुदृढ़ करना हो तो भगवत-भक्ति को अपनाएं ।
  • इससे होने वाले सूक्ष्म परिवर्तन आप स्वयं महसूस करेंगे।आध्यात्मिकता व्यक्तित्व में सद्गुणों को लाती है।
  • स्थिरता,दृढ़ता, विश्वास, निश्चितता,निरंतरता,नियमितता, धैर्य, शांति,निर्भीकता सद्गुण अपनेआप उत्पन्न हो जाएंगे।


2. 
नर्वसनेस दूर करने के लिए स्वयं की जांच पड़ताल कैसे करें। How to check yourself to remove nervousness.

  • हमें स्वयं की जांच पड़ताल करते रहना चाहिए हमें यह जानना आवश्यक है कि हम कौन हैं? क्या है?
  • किससे संबंधित हैं? और हम क्या करना चाहते हैं ? हमारा लक्ष्य क्या है?
  • जब लक्ष्य निश्चित होता है और मार्ग सुव्यवस्थित होता है तो लक्ष्य को पाना आसान हो जाता है।
  • सबसे पहले तो यह निश्चित करें कि आप चाहते क्या हैं? आपका लक्ष्य क्या है?
  • लक्ष्य तय करने के बाद आप अपनी जड़ों को पहचाने ।अपनी शक्ति को पहचाने।
  • हनुमान जी स्वयं इस नर्वसनेस का शिकार हो चुके थे। श्रापवश वे अपनी शक्तियों को भूल चुके थे।
  • और जब सीता जी की खोज में समुद्र पार कर लंका जाने का समय आया।
  • तब जामवंत जी ने हनुमान जी को उनकी शक्तियों की याद दिलाई थी।
  • “का चुप साध रहेउ बलवाना। पवन तनय बल पवन समाना। बुद्धि विवेक विज्ञान निधाना।
  • कौन सो काज कठिन जग माहि। जो नहीं होय तात तुम पाही।”
  • और तब शक्तियों को याद कर, प्रेरित होकर हनुमान जी ने समुद्र को पार कर लंका में प्रवेश किया था।
  • और अपनी बुद्धि कौशल के बल से सीता जी की खोज की तथा लंका को जला डाला था।
  • इसी प्रकार हमें भी अपनी उत्पत्ति, माता-पिता, अपनी वर्तमान तक की उपलब्धियों, अपने पूर्वजों को याद कर,
  • अपनी क्षमताओं की जांच पड़ताल करनी चाहिए। तथा अपने बुद्धि कौशल पर विश्वास करना चाहिए।
  • इस बात का हमेशा ध्यान रखें की परमेश्वर का अंश हमारे भीतर है। हम उनकी संतान हैं।
  • तो जो शक्ति व साहस परमेश्वर में है, वही हमारे भीतर भी है ।
  • अतः मन में दृढता लाकर “अहम् ब्रह्मास्मि” के भाव से प्रत्येक कार्य को पूरे उत्साह के साथ करना चाहिए।

3. स्वयं से व ईश्वर से प्यार करें व अपनी नर्वसनेस को दूर करें। Love yourself and God and remove your nervousness.

  • स्वयं से प्यार करें, व परमात्मा से प्यार करें। जब आप स्वयं से प्यार करेंगे तो स्वयं के प्रति जागरूक होंगे ।
  • आपका खानपान ,दिनचर्या सभी कुछ सुव्यवस्थित और नियंत्रित होगी।
  • किसी भी कार्य को करने से पहले मस्तिष्क में कार्य को लेकर प्रश्न उत्पन्न होने लगते हैं ।
  • और यह प्रश्न असफलता को लेकर होते हैं। मन मे डर पैदा होने लगता है कि कहीं असफल न हो जाएं।
  • अतः सभी तरह की नकारात्मकता को अपने मस्तिष्क से दूर कर सकारात्मक दृष्टिकोण अपनाना चाहिए।
  • ईश्वर से प्रेम आपके मन मे आत्मविश्वास पैदा करता है।ईश्वर हमेशा हमारे लिये हितकारी ही है।
  • अतः पूर्ण विश्वास के साथ ईश्वर को मन मे रखकर कार्य शुरू कर देना चाहिए।
  • कार्य को प्रारम्भ करना यानि उस ट्रेन में बैठ जाना जो आपको आपके इक्छित स्टेशन पर पहुंचाने वाली है।
  • किंतु यह भी ध्यान रखें कि बीच मे कई छोटे छोटे स्टेशन (बाधाएं) भी आएंगी, जिस पर आपको नही उतरना है।
  • जब तक आपका गंतव्य न आये , मार्ग में विचलित नही होना है।
  • ध्यान रखें, जो व्यक्ति स्वयं से प्यार करता है, वही परिवार से , समाज से, व ईश्वर से प्यार कर सकता है। (कैसे दूर करें नर्वसनेस)

4 . प्रत्येक कार्य की पूर्व तैयारी करें जिससे आपकी नर्वसनेस दूर होगी।  Prepare for every task before which your nervousness will go away.

  • किसी भी कार्य को करने के पहले उस कार्य के संबंध में हमारे मस्तिष्क में एक रूपरेखा तैयार करनी चाहिए ।
  • क्योंकि कोई भी कार्य या घटना घटित होने के पहले उक्त घटना या उक्त कार्य हमारे मस्तिष्क में पूर्ण हो जाता है।
  • तब बाहरी रूप में प्रकट होता है। जैसे मकान बनाने से पूर्व उस मकान का संपूर्ण नक्शा बनाया जाता है।
  • जिस में कितने कमरे होंगे रसोई, बगीचा, शौचालय, बैठक, शयनकक्ष, आदि का पूर्व निर्धारण किया जाता है।
  • और तब योजना अनुसार कार्य रूप दिया जा कर मकान का लेआउट बनाया जाता है। तब बिल्डिंग खड़ी होती है।
  • अर्थात पहला मकान इंजीनियर के दिमाग में बनता है, दूसरा कागज पर नक्शा बनता है।
  • तीसरा प्लॉट में लेआउट के रूप में मकान बनता है। जिस पर मकान की नींव रखी जाती है।
  • फिर चौथा मकान कई महीनों के परिश्रम से बहुत लोगों के सहयोग और कई साधनों से मिलकर बनता है ।
  • इसी प्रकार जिस भी कार्य को करना चाहते हैं, उससे पहले उसे स्वयं के मस्तिष्क में पूर्ण करें ।(कैसे दूर करें नर्वसनेस)

तनावमुक्त जीवन कैसे जियें ?

  • तत्पश्चात उसे एक कागज पर लिखें, इस प्रकार योजना बनाकर,ड्राफ्टिंग तैयार करें।
  • उसके लिए सामग्री, साधन व सहयोगी जुटाकर पूरे परिश्रम और लगन के साथ अपने कार्य को पूर्ण करें ।
  • असफलताओं से घबराए नहीं। लोग क्या कहेंगे कभी ना सोचे। प्रत्येक कार्य की पूर्व तैयारी अवश्य करें।
  • थॉमस एडिसन ने जब बल्ब बनाए तो उनसे किसी ने पूछा कि आप 500 बार असफल हुए तो आप निराश नहीं हुए।
  • तो एडिशन ने कहा कि मैंने 500 ऐसे तरीके सीखे जो असफल होने के हैं।
  • मैं ऐसे 500 तरीके लोगों को बता सकता हूँ जो नही करने चाहिए।
  • इस प्रकार असफलता आपकी सफलता का नया मार्ग खोलती है, जिसमें उत्साह के साथ अग्रसर होना चाहिए।
  • जिसने संघर्ष किया है, जिसने असफलता पाई है , वही एक बहुत अच्छा शिक्षक हो सकता है।

5. नर्वसनेस को दूर करने के लिए कार्यों में आ रही बाधाओं का सामना करें, उनसे डरें नही। To overcome the nervousness, face the obstacles coming in the works, do not be afraid of them.

  • प्रत्येक अच्छे व बुरे कार्य में बाधाएं अवश्य आती हैं ।बाधाएं हमें समझने का अवसर देती हैं।
  • बाधाएं ईश्वर की तरफ से भेजा गया वह संदेश है जो हमें अपने कार्य में समर्पण के लिए प्रेरित करता है।
  • बुरे कार्यों में आने वाली बाधा बुराइयों से दूर रहने के लिए होती हैं।
  • जबकि अच्छे कार्य में आने वाली बाधा हमारे कार्य के प्रति समर्पण की जांच करती हैं।
  • बाधाओं से डरे नहीं बल्कि उनसे प्रेरणा लेकर अपने मार्ग को निष्कलंक बनाते हुए पूरे समर्पण के साथ आगे बढ़ें।
  • हमारी कमियां भी हमारी मार्ग की बाधाएं हैं । किंतु यह कमियां हमें बहुत कुछ सिखाती हैं।
  • जब ऐसी कमियां हम दूसरों में देखते हैं तो दूसरे की भावनाओं को समझते हैं।
  • और उन्हें उस कमी से होने वाली त्रुटि के लिए क्षमा कर पाते हैं ।(कैसे दूर करें नर्वसनेस)
  • यह बाधाएं, यह संघर्ष ही हमें लक्ष्य के प्रति सचेत करती हैं और हम दुगने उत्साह से अपने लक्ष्य के प्रति जुट जाते हैं।


6. स्वयं पर व ईश्वर पर विश्वास करें व नर्वसनेेेस को पल में दूूूर करेें। Believe in yourself and God and do Nervasenes in the moment.

  • हमें स्वयं पर विश्वास होना चाहिए। आपका आप पर विश्वास ही आपको विजय दिलाता है।
  • जीतने वाला व्यक्ति अपने विचारों में पहले जीत जाता है।उसे खुद पर विश्वास होता है।असंभवभी संभव होजाते हैं।
  • दूसरा भगवान पर विश्वास होना चाहिए। जब कभी भी विपत्ति में हम पड़ते हैं और कोई रास्ता नहीं सूझता ।
  • तभी ईश्वर को याद करते हैं और अचानक से विपत्ति टल जाती है, या उसका समाधान मिल जाता है।
  • यह उस परमपिता का ही चमत्कार होता है जो हमें मुसीबत से निकालते हैं ।
  • अतः ईश्वर पर हमेशा विश्वास बनाए रखना चाहिए। जैसे बच्चा अपने पिता के साथ होता है तो बेधड़क रहता है ।
  • किसी से नहीं डरता। उसमें यह विश्वास होता है कि मेरे साथ मेरे पिता है। अब मैं पूर्ण सुरक्षित हूं ।
  • मेरा कोई कुछ नहीं बिगाड़ सकता। ऐसे ही हमें ईश्वर पर विश्वास होना चाहिए ।
  • कि वह परमपिता हमेशा हमारे साथ है वह हमें कभी मुसीबत नहीं डालेगा ।
  • हमेशा हमारी मदद करेगा ऐसे विश्वास के साथ किसी भी कार्य को प्रारंभ करें हमेशा सफलता मिलेगी।(कैसे दूर करें नर्वसनेस)

अपनी नर्वसनेस को दूर करना चाहते हैं तो इसे भी अवश्य सुनें

https://youtu.be/OopkIiilZgI

कैसे दूर करें नर्वसनेस ! 6 बातें अपनाकर निश्चित ही जीवन मे बदलाव ला सकते हैं।

पको यह जानकारी अच्छी लगी हो तो अपने मित्रों व परिजनों को भी भेजें।

ऐसी ही अन्य प्रेरणादायक जानकारियों के लिए नीचे डिये लिंक पर आएं

http://Indiantreasure.in

Spread the love

One thought on “कैसे दूर करें नर्वसनेस ; 6 बातें ! How to overcome nervousness; 6 things!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!