उत्तानपादासन करने की विधि व फायदे | Method And Benefits Of Doing Uttanpadasana ; Total Post View :- 184

उत्तानपादासन करने की विधि व फायदे | Method And Benefits Of Doing Uttanpadasana

उत्तानपादासन करने की विधि व फायदे | Method And Benefits Of Doing Uttanpadasana ; यह आसन मेरुदण्ड व मांसपेशियों को सुदृढ़ बनाता है। शरीर को लचीला बनाता है। पेट की चर्बी को कम करता है।

आज हम आपको उत्तानपादासन व अर्द्ध उत्तानपादासन रने की विधि व फायदे | Method And Benefits Of Doing Uttanpadasana बताएंगे। यह जानकारी बहुत महत्वपूर्ण

उत्तानपादासन करने की विधि

  • उक्त आसन करने के लिए भूमि पर चित्त लेट जायें। शरीर एकदम सीधा रहे।
  • दोनों हथेलियाँ भूमि का स्पर्श करती रहें एवं दोनों एड़ियाँ परस्पर सती रहें। दृष्टि छत की ओर (ऊपर) रहे।
  • अब धीरे-धीरे श्वास खींचते हुए अपने फेफड़ों में पर्याप्त वायु भर लें तथा ‘कुम्भक करें।
  • अर्थात् कुछ देर तक वायु को भीतर ही रोके रहें।
  • जब श्वास लेना पूरा हो जाये, तब दोनों पाँवों को एक साथ, एक सीध में, धीरे-धीरे पृथ्वी से लगभग 10 इंच ऊपर उठायें ।
  • उठाते समय दोनों पाँव परस्पर मिले हुए एकदम सीधे तथा तने हुए रहने चाहिए।
  • यह कुम्भक’ अर्थात् श्वास को रोके रखने की स्थिति में होनी चाहिए।
  • केवल 6 से 8 सैकिण्ड तक इस स्थिति में रहें।
  • जब दोनों पाँव भूमि में लगभग 10 इंच ऊपर उठे रहते हैं, ब उन पर अधिक जोर पड़ता है। यदि उन्हें अधिक ऊँचा उठा लिया तो अधिक जोर नहीं पड़ता।
  • अत: प्रारम्भिक अवस्था में यदि अधिक पड़ने के कारण कुछ तकलीफ का अनुभव हो तो पाँवों को और अधिक ऊँचा उठा लेना चाहिए।
  • इसके बाद केवल 10 इंच तक ही ऊपर उठाये रखने का अभ्यास करना चाहिए।

पैरों को नीचे लाएं

  • अब श्वास छोड़ते हुए, दोनों पाँवों को इस प्रकार एक साथ धीरे धीरे नीचे लायें ।
  • जब तक आपके श्वास छोड़ने की क्रिया पूरी हो तब तक दोनों पाँव भी नीचे आ जायें।
  • इस प्रकार अभ्यास का एक चक्र पूरा हो जाने पर 6 से 8 सैकिण्ड तक विश्राम करें।
  • तदुपरान्त इसी प्रक्रिया को 11 बार तक दुहरायें ।

अर्द्ध-उत्तानपादासन

अर्द्ध उत्तानपादासन करने की विधि

अर्द्ध उत्तानपादासन करने की विधि

  • यदि उक्त अभ्यास के करने में रीढ़ अथवा पीठ में कष्ट का अनुभव हो तो अर्द्ध उत्तानपादासन करें।
  • दोनों पाँवों को एक साथ ऊँचा उठाने की बजाय बारी-बारी से केवल एक ही पाँव को ऊंचा उठाते हुए उक्त अभ्यास करें। इसे ‘अर्द्ध-उत्तानपादासन’
  • कहा जाता है। यदि पहली बार बाँया पाँव ऊपर उठाया हो तो दूसरी बार दाँया पाँव ऊपर उठाना चाहिए।
  • इस प्रकार प्रत्येक पाँव द्वारा बारी बारी से 10-10 बार अभ्यास करना चाहिए।
  • इससे मेरुदण्ड पर पड़ने वाला जोर घट जायेगा तथा कष्ट का अनुभव नहीं होगा।

उत्तानपादासन को करने के नियम

  • प्रथम दिन के अभ्यास में उक्त अभ्यासों को केवल तीन- चार बार दुहराना ही पर्याप्त रहेगा।
  • इसके बाद नित्य एक दो बार अभ्यास क्रम में वृद्धि करनी चाहिए तथा अन्त में 10 बार तक दुहराना चाहिए।
  • ‘अर्द्ध उत्तानपादासन’ के अभ्यास में सफलता मिल जाने पर दोनों पाँवों को एक साथ ऊपर उठाते हुए पूर्ण ‘उत्तानपादासन का अभ्यास भी करना चाहिए।

विशेष

  • इस आसन से मेरुदण्ड पर अत्यधिक जोर पड़ता है, अतः मेरुदण्ड में किसी प्रकार की पीड़ा अथवा आघातादि का कष्ट हो तो ‘पूर्ण उत्तानपादासन’ नहीं करना चाहिए।
  • ऐसी स्थिति में यदि सम्भव हो सके तो ‘अर्द्ध-उत्तानपादासन’ किया जा सकता है और इसी से पर्याप्त लाभ हो सकता है।

उत्तानपादासन करने के लाभ-

  • इस आसन से मेरुदण्ड (रीढ़ की हड्डी) सशक्त होता है। तथा आन्तरिक कोशिकाएं पुष्ट होती है।
  • यह सम्पूर्ण स्नायु तन्त्र को क्रियाशील बनाकर, पेट तथा उसके समीपस्थ भाग के भार को सन्तुलित करता है एवं भीतर की अनेक गड़बड़ियों को मिटाता है।
  • इससे अपच, कोष्ठबद्धता, स्नायु विकार, पीठ का दर्द एवं पीठ की अन्य गड़बड़ियाँ दूर होती है।
  • तथा आमाशय को जलन मिटता है।
  • खाना खाने के बाद खट्टी मीठी डकार आना, वमन होना, भोजन का हजम न होना, पेट में गैस बनना,
  • नया रक्त न बनना, पाँवों का सो जाना तथा टाँगों का झन्नाटा आदि शिकायतें भी इस आसन के अभ्यास से दूर हो जाती हैं ।

इन्हें भी पढ़ें

पश्चिमोत्तानासन करने की विधि व लाभ | Method And Benefits Of Doing Paschimottanasana

भुजंगासन करने के लाभ व विधि | Benefits And Method Of Doing Bhujangasana

शलभासन करने की विधि व फायदे | Method And Benefits Of Doing Shalabhasana

निष्कर्ष

आशा है आपको उत्तानपादासन करने की विधि व फायदे | Method And Benefits Of Doing Uttanpadasana सम्बन्धी यह जानकारी अवश्य अच्छी लगी होगी।

स्वास्थ्य से बढ़कर कुछ नहीं है। योगासन को अपनाएं व स्वस्थ व निरोगी हो जाएं।

लेख को अंत तक पढ़ने के लिए धन्यवाद

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!