अफगानिस्तान की न्यूज़ Total Post View :- 1397

अफगानिस्तान की ताजा खबर ; झलकियां ! इतिहास जानें, अपडेट रहें !!

नमस्कार दोस्तों ! अफगानिस्तान की ताजा खबर कैश धन लेकर भागे राष्ट्रपति, महिलाएं खरीद रही बुर्का और मौत कर रही तांडव । अफगानिस्तान में हो रही अफरा तफरी और तालिबान का इतिहास कोई नया नहीं है। आइए अफगानिस्तान की कुछ झलकियां व इतिहास के बारे में जानते हैं। देश विदेश की खबरों से रहें अपडेट ; ✍️ आकाश दीक्षित एडवोकेट !

  • अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा !
  • महिलायें खरीद रही बुर्का !
  • दूतावासों को नुकसान नहीं पहुंचाएंगे – तालिबान ने कहा !
  • महिलाओं को स्वास्थ्य शिक्षा मिलेगी!
  • पाकिस्तान के इशारे पर काम करेगा तालिबान !
  • महिलाओं से भेदभाव नहीं होगा – तालिबान !
  • कैश भरी कारें और हेलीकॉप्टर से भागी राष्ट्रपति गनी !
  • हमारी सेना और जोखिम नहीं उठा सकती – बाइडेन !
  • अफगानिस्तान के लिए आगे आए दुनिया – बाइडेन !
  • कहां गए तीन लाख सैनिक !
  • जेलें हुई खाली छोड़े गए आतंकी !
  • पाकिस्तान में मनाई जा रही है खुशी !
  • अफगानिस्तान में मची लूट !
  • एयरपोर्ट रनवे में भीड़, विमान में लटकने तक की आई खबर !
  • रूस ने कहा अफगानिस्तान पूर्ण सुरक्षित !

कैश धन लेकर भागे अफगानी राष्ट्रपति !

अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी देश में तालिबान के बढ़ते प्रभाव और अमेरिका की सेना की वापसी के बाद,

अपने देश के नागरिकों की परवाह किए बिना, चुपचाप अपने राष्ट्रपति भवन से हेलीकॉप्टर से,

काबुल एयरपोर्ट पहुंचे उनके पीछे पीछे चार कैश और कीमती वस्तुओं से भरी कारें भी एयरपोर्ट पहुंची ।

जहां एक प्राइवेट कंपनी के विमान में पूरा कैश और धन भरकर वे अफगानिस्तान से भाग गए।

शायद वे अभी ओमान में है जहां से वे अमेरिका जाना चाह रहे हैं।

सूत्र बताते हैं कि विमान में जितना कैश और धन भरा जा सका उतना वे ले जा पाए।

शेष धन जो करोड़ों , अरबों का था उसे वे एयरपोर्ट में ही छोड़ गए ।

महिलाएं खरीद रही बुर्का !

(अफगानिस्तान की ताजा खबर)!

तालिबान के कब्जे के बाद सबसे ज्यादा भयभीत अफगानिस्तान की महिलाएं हैं।

जिनकी संख्या देश की जनसंख्या की लगभग आधी है।

यह महिलाएं अभी पूर्ण स्वतंत्रता और खुशहाली का जीवन जी रही थी।

स्कूल, कॉलेज, ब्यूटी पार्लर, मार्केट खेलकूद की गतिविधियों में यह बेखौफ हिस्सेदारी कर रही थी ।

पर अब वे बिना समय समय गवाएं बुर्के खरीद रही हैं।

और अपने को तालिबानियों से सुरक्षित करने के लिए छुपकर रहने की तैयारी कर रही है।

बाइडेन ने कहा हमारा निर्णय सही !

अमेरिकी राष्ट्रपति, बाइडेन द्वारा अफगानिस्तान से सेना वापस बुलाने के निर्णय की सर्वत्र आलोचना हो रही है।

और अफगानिस्तान के वर्तमान हालात के लिए उन्हें जिम्मेदार ठहराया जा रहा है।

परंतु बाईडेन ने अपने निर्णय को सही बताते हुए कहा कि हमारी सेना और जोखिम नहीं उठा सकती।

और अफगानिस्तान के लिए सारी दुनिया आगे आए । हमने अपनी भूमिका पूरी कर दी।

अब हम अपने एक भी सैनिक या नागरिक नहीं खोना चाहते।

अफगानिस्तान में अफरा-तफरी का माहौल !

लोग भयभीत हैं, अफगानिस्तान में अफरा-तफरी का माहौल बना हुआ है।

हजारों लोग अफगानिस्तान छोड़कर अन्य देशों में शरण लेने के लिए भाग रहे हैं।

धीरे-धीरे पूरे अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा हो गया। अफगानी लड़ाके खुलकर गोलीबारी कर रहे हैं।

अफगानिस्तान के हर शहरों में दहशत का माहौल है । तालिबानी लड़ाके खुलकर लूटपाट कर रहे हैं।

तालिबानियों की इस ताकत का अंदाजा किसी को भी नहीं था।

कोई सोच भी नहीं सकता था कि तालिबानी इतनी जल्दी पूरे अफगानिस्तान को अपने कब्जे में ले लेंगे।

अफगानिस्तान में तालिबान का इतिहास नया नहीं है!

1990 में मुल्ला उमर ने तालिबान को अस्तित्व में लाया और जल्दी ही मजहबी हुजूम ने

अपनी ताकत दिखानी शुरू कर दी । पूर्व या अफगानिस्तान की तत्कालीन भ्रष्ट सरकार को सत्ता छोड़नी पड़ी ।

और रूस की मदद से तालिबान शक्तिशाली बनकर अफगानिस्तान पर राज करने लगा।

सरिया कानून और जिहादियों, आतंकवादियों की मदद से तालिबान ने अफगानी जनता पर अत्याचार करते हुए,

राज्य करना शुरू कर दिया। अफगानिस्तान के स्कूल कॉलेज बंद हो गए। महिलाओं का निकलना बंद हो गया।

जिसने भी विरोध किया उसे शरिया कानून का सामना करना पड़ा और सजा-ए-मौत का फरमान जारी होने लगा।

और उसी दौर में अफगानिस्तान आतंकवादियों की शरण स्थली बन गया।

धार्मिक उन्माद के चलते जैश-ए-मोहम्मद अलकायदा जैसे संगठनों के सरगना अफगानिस्तान की धरती का पूरा

उपयोग विश्व भर में आतंक फैलाने के लिए करने लगे। (अफगानिस्तान की ताजा खबर )

नागरिकों पर मुल्ला उमर के अत्याचार !

(अफगानिस्तान की ताजा खबर )

अफगानिस्तान की ताजा खबर : नागरिकों पर मुल्ला उमर के अत्याचार!

मुल्ला उमर ने जहां अफगानी नागरिकों पर खुलकर अत्याचार करना जारी रखा ।

वही अलकायदा का सरगना ओसामा बिन लादेन वहीं से बड़ी बड़ी आतंकी गतिविधियों को अंजाम देने लगा।

यह दौर लगभग 10 वर्षों तक अनवरत चलता रहा। पूरा विश्व लगातार हो रही आतंकी वारदातों से थर्राने लगा।

तब अमेरिका ने इन तालिबानियों और अलकायदा पर नियंत्रण बनाना शुरू किया।

क्योंकि अमेरिका में पेंटागन और अन्य आतंकी गतिविधियां हुई जिनमें सैकड़ों अमेरिकी नागरिकों को जान गंवानी पड़ी।

वर्ष 2000 में अमेरिका ने ठान लिया कि किसी भी तरह तालिबान को अफगान की सत्ता से हटाना है।

और ओसामा बिन लादेन का सफाया करना है और वर्ष 2002 तक अमेरिकी सेनाएं पूरी तरह अफगानिस्तान को

अपने नियंत्रण में लेकर हजारों अमेरिकी सैनिकों को स्थाई रूप से अफगानिस्तान में ही सैनिक अड्डे बना कर रख दिया

लगभग 20 वर्षों तक ..

अमेरिका ने लगभग 20 वर्षों तक अफगानिस्तान को अपने नियंत्रण में रखा इन 20 वर्षों में वहां लोकतंत्र बहाल हुआ।

पूरे अफगान का पुनर्निर्माण हुआ । स्कूल, कॉलेज, अस्पताल, शासकीय कार्यालय बने।

अफ़गान के बच्चे पढ़ने लगी, महिलाएं बाहर निकल कर काम करने लगी।

खेलकूद में अफगान का नाम होने लगा। छुटपुट घटनाओं को छोड़कर अफगानिस्तान में शांति बहाली हो गई।

अमेरिका की सेनाओं के द्वारा प्रशिक्षित कर लगभग तीन लाख अफगानी सैनिकों को देश की रक्षा के लिए

तैयार किया गया। ऐसा लग रहा था कि अब अफगानिस्तान सुरक्षित हो गया।

यहां के नागरिक अब विश्व के अन्य देशों के नागरिकों के समान सुरक्षित और अधिकार प्राप्त हो गए।

इस देश की प्रतिभाएं अब विभिन्न क्षेत्रों में अपना लोहा मनवाने लायक हो गई है।

अब अफगानिस्तान में आतंक का कोई स्थान नहीं है। (अफगानिस्तान की ताजा खबर )

पर ऐसा नहीं हुआ !

(अफगानिस्तान की ताजा खबर)

जैसे ही अमेरिका ने अपनी सेना वापसी प्रारंभ की वैसे ही तालिबान ने पैर पसारना शुरू किया।

बता दें कि अफगानिस्तान का लगभग 45% भूभाग घनघोर जंगलों और दुर्गम स्थानों में है।

जहां 20 वर्षों से अफगानी लड़ाके अपना अज्ञातवास काट रहे थे।

वे जैसे ही अमेरिकी सेना की वापसी की सूचना पाए पुनः अपनी पुरानी तासीर में आ गए ।

और अफगानिस्तान में तालिबान को पुनः स्थापित करने में जुट गए।

अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा!

(अफगानिस्तान की ताजा खबर)

आज संपूर्ण अफगानिस्तान में तालिबान का कब्जा हो गया।

अफगानिस्तान विश्व की बड़ी शक्तियों अमेरिका रूस चीन की राजनीतिक प्रयोगशाला भी है।

1990 से 2000 तक एक प्रकार से रूस अफगानिस्तान पर नियंत्रण रखा तो 2001 से 2021 वर्तमान तक

अमेरिका का नियंत्रण रहा। अफगानिस्तान की वर्तमान हालात से पूरा विश्व चिंतित है।

सभी देशों ने तालिबान से अपील की है कि वे हिंसा न करें। किसी भी नागरिक या विदेशी नागरिक को क्षति न पहुंचाएं।

अफगानिस्तान के नागरिकों को शरण देने की अपील भी विश्व स्तर पर की जा रही है।

तालिबान ने आज विधिवत प्रेस कॉन्फ्रेंस कर लोगों को शांति बहाली में मदद की अपील करते हुए कहा कि

सभी विश्वास रखें। किसी के साथ भी अन्याय नहीं होगा। महिलाओं को स्वास्थ्य और शिक्षा दोनों की सुविधा और

अधिकार मिलेंगे । किसी के साथ भेदभाव नहीं होगा। किसी भी विदेशी दूतावास को नुकसान नहीं होगा।

देश में मचे भ्रष्टाचार का खात्मा होगा । अशरफ गनी की सरकार के कारण देश असुरक्षित हो गया था ।

अब तालिबान सभी के हितों की रक्षा करेगी परंतु क्या ऐसा होगा।

तालिबान की बातों पर कोई भरोसा करने तैयार नहीं है पर सभी चाहते हैं कि अफगानिस्तान के हालात सुधरे।

हिंसा समाप्त हो और अमन चैन शांति बहाली हो । (अफगानिस्तान की ताजा खबर )

कहां गए तीन लाख सैनिक !

अमेरिका ने लगभग 20 वर्षों में अफगानिस्तान की सुरक्षा के लिए लाखों अफगानियों को प्रशिक्षण दिया ।

और लगभग तीन लाख अफ़गानियों की सेना तैयार की। जो अत्याधुनिक हथियारों को चलाने में पूर्ण प्रशिक्षित है।

इसके अलावा अफगानी सेना के पास अमेरिका और ब्रिटेन में बने हथियारों का भंडार था।

जो हर हालत का मुकाबला करने के लिए काफी होता है।

किंतु कुछ हजार तालिबानी लड़ाकों ने पूरे अफगानिस्तान को अपने कब्जे में लिया ।

और तीन लाख की सेना कहां चली गई पता ही नहीं चला।

बहुत से सैनिकों ने तालिबानियों के सामने आत्मसमर्पण कर अपने हथियार भी उन्हें सौंप दिए।

बाकी सैनिक भाग गए या कहीं जान बचाने के लिए छुप गए।

जेलें हुए खाली छोड़े गए आतंकी !

(अफगानिस्तान की ताजा खबर )

अफगानिस्तान की जेलों में भारी तादाद में बंद खूंखार आतंकवादियों को छोड़ दिया गया।

जिसमें जैश-ए-मोहम्मद, अलकायदा जैसे आतंकी संगठन के सदस्य और तालिबानी शामिल हैं ।

जिससे जेलें खाली हो गई है। (अफगानिस्तान की ताजा खबर )

पाकिस्तान में मनाई जा रही खुशी !

(अफगानिस्तान की ताजा खबर )

अफगानिस्तान में अशरफ गनी के शासन की समाप्ति और तालिबान की वापसी पर

पाकिस्तान में बहुत खुशी मनाई जा रही है। और मिठाई भी बांटी जा रही है।

पाकिस्तान के मुखिया इमरान खान ने कहा कि अफगानिस्तान में गुलामी की बेड़ियां टूट गई है।

अब अफगानी खुली हवा में सांस ले सकते हैं। ( अवश्य पढ़ें अफगानिस्तान की ताजा खबर )

अफगानिस्तान में मची लूट !

(अब पढें अफगानिस्तान की ताजा खबर )

आज अफगानिस्तान में चहुंओर लूटपाट का माहौल बन गया है। सरकारी संपत्तियों की तो खुलकर लूटा जा रहा है ।

साथ ही प्राइवेट संपत्तियों को भी छुड़ाने और लूटने का सिलसिला जारी है।

भयभीत लोग जान बचाने भाग रहे हैं। लोगों के घरों में घुसकर नगदी जेवरात छुड़ाने वाले सक्रिय हो गए हैं।

तालिबान लड़ाके भी इसमें सबसे आगे हैं। जो विरोध कर रहा है उसे गोलियों से भून दिया जा रहा है।

एयरपोर्ट रनवे में भीड़; विमान में लटकने तक की आई खबर!

अफगानिस्तान की ताजा खबर ; एयरपोर्ट रनवे में भीड़ !

तालिबान के नाम की भयावहता कितनी है और लोग कितनी दहशत में है ।

इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि काबुल एयरपोर्ट में भारी भीड़ जमा हो गई

और विमान को देखकर लोग रनवे तक आ गए । विमान में जगह नहीं है, सीट खाली नहीं है

तो भी लोग उसके फर्श पर ही बैठकर भागने को तैयार हैं। एक विमान में तो अंदर घुसने नहीं मिलने पर

कुछ लोग टायर के पास की जगह में बाहर ही बैठ गए।

तो कुछ लोग विमान के किसी हिस्से को पकड़ कर लटक ही गए ,

और विमान के उड़ने के बाद यह सभी जो विमान के बाहर थे एक-एक करके गिरकर मर गए। (अफगानिस्तान की ताजा खबर )

रूस ने कहा अफगानिस्तान पूर्णत सुरक्षित !

अफगानिस्तान में तालिबान की वापसी से रूस खुश है। उसने अपनी आधिकारिक विज्ञप्ति में कहा कि

अफगानिस्तान अब पूर्ण सुरक्षित है।

अशरफ गनी के शासन में इस देश में अराजकता और भ्रष्टाचार का बोलबाला था जो अब समाप्त हो गया ।

अब यह देश सुरक्षित हो गया। (अफगानिस्तान की ताजा खबर ) ✍️ आकाश दीक्षित एडवोकेट !

ऐसे ही देश विदेश की अन्य खबरों के लिए देखते रहे आपकी अपनी वेबसाइट

http://Indiantreasure. in

अन्य पोस्ट भी पढ़ें !

इस बार स्वतंत्रता दिवस पर क्या करेंगे देश के अन्नदाता ? सरकार सचेत !!

अब पढें न्यूज़ अपडेट ; तीसरे स्टेज पर भटकने से इसरो का मिशन फेल !

सदन में सांसदों का व्यवहार ; देश का बुध्दिजीवी दुखी !

https://youtu.be/GAJ0PGAuMCI

Spread the love

2 thoughts on “अफगानिस्तान की ताजा खबर ; झलकियां ! इतिहास जानें, अपडेट रहें !!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!